किस-किसने अंतरात्मा की सुनी? राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग पर आलाकमान नाराज

किस-किसने अंतरात्मा की सुनी? राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग पर आलाकमान नाराज

प्रेषित समय :11:55:57 AM / Mon, Jul 25th, 2022

नई दिल्ली. राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग करने से आलाकमान ने नाराजगी जताई है। आलाकमान ने विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को समर्थन देनी की घोषणा की थी, लेकिन कांग्रेस के 9 से 10 विधायकों ने उनके खिलाफ द्रौपदी मुर्मू के पक्ष में वोट किया। हालांकि राष्ट्रपति चुनाव में पार्टी का व्हिप जारी नहीं होता है और गुप्त मतदान होता है। ऐसे में विधायकों ने आलाकमान के फैसले के खिलाफ क्यों गए, इसके बारे में पूछताछ की जाएगी। 

28 या 29 जुलाई को कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई जाएगी। इसमें ही उनसे सब कुछ पूछा जाएगा। आवश्यकता पड़ने पर प्रभारी अविनाश पांडेय विधायकों से वन टू वन मुलाकात कर भी समस्या जानेंगे। कांग्रेस प्रभारी विधायक दल की बैठक के साथ-साथ संगठनात्मक चुनाव को लेकर भी बैठक करेंगे। जिलाध्यक्षों के लिए आवेदन देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। 30 जुलाई को रांची में जिलाध्यक्षों के आवेदन के आधार पर इंटरव्यू की प्रक्रिया भी हो सकेगी।

कांग्रेस विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है यह तो तय है, लेकिन वे यह मानने को तैयार नहीं हैं कि उन्होंने क्रॉस वोटिंग की है। ऐसे में क्रॉस वोटिंग मामले पर पार्टी विधायकों पर कार्रवाई नहीं कर सकेगी। कांग्रेस के कुछ विधायकों की मानें तो यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति चुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी नहीं थे। वे तृणमूल कांग्रेस के प्रत्याशी थे। कांग्रेस ने उन्हें अपना समर्थन दिया था। कुछ विधायकों ने यहां तक कहा कि यशवंत सिन्हा ने जाति, धर्म को छोड़ अंतरआत्मा की आवज सुन कर वोट देने की सलाह दी थी। इसलिए विधायकों ने अपनी अंतरआत्मा की आवाज सुनी होगी।

प्रदेश नेतृत्व-विधायक दल के नेता से मांगी रिपोर्ट
झारखंड कांग्रेस के प्रभारी अविनाश पांडेय ने कहा, ''राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग के मामले में झारखंड के प्रदेश नेतृत्व व विधायक दल के नेता से रिपोर्ट मांगी है। 28 जुलाई को रांची आ रहा हूं। इस दौरान विधायकों से बातचीत करूंगा। विधायकों पर किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं होगी।'' 

Source : palpalindia ये भी पढ़ें :-

Leave a Reply