रोज कॉफी पीने वाली महिलाओं को टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कम

रोज कॉफी पीने वाली महिलाओं को टाइप 2 डायबिटीज का खतरा कम

प्रेषित समय :10:57:35 AM / Wed, Jan 4th, 2023

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक विश्व में 42.2 करोड़ से ज्यादा लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं. इसके साथ ही करीब 15 लाख लोगों की मौत हर साल प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से डायबिटीज के कारण होती है. पर इससे बड़ी चिंता की बात यह है कि विश्व में कुल डायबिटीज मरीजों में 17 प्रतिशत मरीज भारत से हैं. यानी भारत में करीब 8 करोड़ लोग डायबिटीज से पीड़ित है. आंकड़ों के मुताबिक भारत में 2045 तक 13.5 करोड़ लोग डायबेटिक होंगे. इसलिए भारत को डायबेटिक कैपिटल ऑफ वर्ल्ड कहा जाने लगा है. टाइप 2 डायबिटीज के मामले में भारत में मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है. कुछ महिलाओं में प्रेग्नेंसी के समय डायबिटीज हो जाता है. इसे जेशटेशनल डायबिटीज कहते हैं. इनमें से कुछ महिलाओं को हमेशा के लिए टाइप 2 डायबिटीज हो जाता है. अब एक अध्ययन में दावा किया जा रहा है कि नियमित कॉफी का सेवन महिलाओं में जेशटेशनल डायबिटीज के कारण होने वाले टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम करेगा.

ग्लोबल डायबेट्स कम्युनिटी की वेबसाइटमें प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक सिंगापुर में शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया है कि जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान जेशटेशनल डायबिटीज हो जाता है, अगर वे कॉफी का नियमित सेवन करें तो वे टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम से बच सकती है. यह अध्ययन नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर के शोधकर्ताओं ने किया है. शोधकर्ताओं ने बताया कि जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान जेशटेशनल डायबिटीज हो जाता है, वे अगर लंबे समय तक नियमित रूप से कॉफी का सेवन करें तो बाद में उनमें डायबिटीज होने का जोखिम बहुत कम हो जाता है. दरअसल, जिन महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान जेशनटेशनल डायबिटीज हो जाता है, उनमें सामान्य महिलाओं की तुलना में डायबिटीज होने का जोखिम 10 गुना कम हो जाता है.

4500 महिलाओं पर अध्ययन
ग्लोबल सेंटर फॉर एसियन वूमेंस हेल्थ में डायरेक्टर प्रोफेसर झांग और नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर में स्कूल ऑफ मेडिसीन विभाग के प्रोफेसर के नेतृत्व में यह अध्ययन हुआ है. अध्ययन में 4500 उन महिलाओं को शामिल किया गया जिन्हें कभी न कभी जेशटेशनल डायबिटीज से गुजरना पड़ा. इन महिलाओं के पिछले 25 सालों की हेल्थ डाटा को खंगाला गया. अध्ययन में पाया गया जिन महिलाओं ने चार या इससे ज्यादा कप कॉफी पी उनमें डायबिटीज का जोखिम 53 प्रतिशत तक कम हो गया. वहीं जो महिलाएं दो या तीन कप कॉफी पी उनमें डायबिटीज का जोखिम 17 प्रतिशत तक कम हो गया जबकि एक या इससे कम कप कॉफी पीने वाली महिलाओं में डायबिटीज का खतरा 10 प्रतिशत तक कम हो गया. अध्ययन में यह भी पाया गया कि मीठी कॉफी के बदले अगर सिर्फ कैफीनेटेड कॉफी पी जाए तो डायबिटीज का जोखिम और कम हो जाता है.
 

Source : palpalindia ये भी पढ़ें :-

Leave a Reply