समग्र

चानू की चांदी की चमक नीरज ने स्वर्णिम आभा में बदल दी..

शायद यही वो घड़ी थी, जिसका भारत ओलंपिक में सवा सौ सालो से इंतजार कर रहा था। यानी ( हॉकी के पुराने स्वर्णिम दौर को अलग रखें तो) एक अदद स्वर्ण पदक, जो इसके 13 साल पहले सिर्फ बीजिंग ओलंपिक में आया था। और अब  तोक्यो ओलिंपिक के आखिरी दिन भारत के पहले गोल्ड मेडल के रूप में आया है।  सीधे सोने पर लगा एथलीट नीरज चोपड़ा का भाला (जैवलिन) 140 करोड़ भारतवासियों को खुशी के आंसुओं में भिगो गया। जरा फिर से याद करिए, बल्कि बार-बार करते रहिए जैवलिन थ्रो का वो दूसरा अटेम्प्ट, जिसमें हरियाणा के इस ‘छोकरे’ ने 87.58 मीटर की दूरी पर ऐसा भाला गाड़ा कि छठे और आखिरी अटेम्प्ट तक दूसरा कोई उसके करीब  भी फटक नहीं पाया। सारी लड़ाई नंबर दो और तीन के लिए होती रही। इसके पहले दोपहर में बजरंग पूनिया ने कुश्ती में कांस्य पदक अपने नाम किया। तोक्यो ओलंपिक में कई ऐसे मौके आए जब भारतीय खिलाड़ी सोने, चांदी या कांस्य  पदक से एक कदम दूर रह गए। ऐसा लगा कि हम फिनिशिंग में कमजोर हैं। पदक हाथ आते-आते रह जाते हैं। कहीं कुछ कमी है। वेटलिफ्टिंग और कुश्ती के दांव रजत पदक तक सिमटने के बाद लगने लगा था कि गोल्ड इस बार भी सपना रह जाने वाला है। लेकिन नीरज के अडिग संकल्प ने इस सपने को हकीकत में बदल दिया। समूचा देश भी यही चाहता था। रोमांच और तनाव के उन मिले- जुले क्षणो में शायद नास्तिक भी मन ही प्रार्थना करने लगे थे कि भगवान कम से कम नीरज को तो इतनी शक्ति दे कि उसका जैवलिन स्वर्ण पदक को भेद सके। नीरज ने वही किया। उनकी बाॅडी लैग्वेंज बता रही थी कि वो शुरू से आत्मविश्वास से भरे थे। एक विजेता का आत्मविश्वास, जिसकी परिणति तोक्यो ओलिंपिक के आखिरी दिन स्टेडियम में भारत के राष्ट्रगान ‘जन मन गण अधिनायक जय हे’ से हुई। यकीनन इस ओलम्पिक में भारत के नायक तो कई रहे लेकिन ‘अधिनायक’ नीरज चोपड़ा ही साबित हुए। खेलों में यह नए भारत की शुरुआत है। एक बात तो साफ है कि देश में खेलो के प्रति बढ़ते रूझान,बेहतर सुविधाअों और सरकार के प्रयासों से हम अब खेलों को भी ‘जीवन मरण’ के आईने में देखने लगे हैं। बीच में एक रियो ओलंपिक को छोड़ दें तो बीजिंग ओलंपिक के बाद से भारत की ओलंपिक खेलो में हिस्सेदारी और पदको की भागीदारी लगातार बढ़ रही है। हमारे खिलाड़ी अब गोल्फ, ट्रैक एंड फील्ड जैसे अपारंपरिक खेलो में पदकों की न सिर्फ दावेदारी कर रहे हैं बल्कि मेडल ला भी रहे हैं। 2008 के बीजिंग ओलंपिक में जब अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग की व्यक्तिगत स्पर्धा में भारत के लिए पहला गोल्ड जीता था, तब भारत ने 12 खेलो में 57 खिलाड़ी भेजे थे। इस बार 18 खेलों में हमारे 228 खिलाड़ियों ने हिस्सेदारी की। कड़ी मेहनत और जीतने की जिद का नतीजा है कि इतिहास में पहली बार भारत ने पदकों की तीनो  श्रेणियों यानी स्वर्ण, रजत और कांस्य में मेडल जीते हैं। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। भारतीय महिला हॉकी टीम, गोल्फ में अदिति अशोक और दो पहलवान और एक बॉक्सर मेडल जीतने के करीब जाकर भी कामयाब नहीं हो पाए। लेकिन यह समय  निराश होने का नहीं अगले ओलंपिक में खेलों की सभी केटेगरी में और ज्यादा मेडल जीतने के संकल्प का है। हमारे खिलाड़ियों ने दिखा दिया कि उनमें  जीतने का माद्दा और जिद है। बस इसे थोड़ा ‘पुश’, प्रोत्साहन, संसाधन, प्रशिक्षण और दुआएं चाहिए। हमारी बेटियां 2012 के ओलंपिक से लगातार बेहतर कर रही हैं और देश के पुरूष खिलाड़ियों के सामने अघोषित चुनौती पेश कर रही हैं। यह एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओलंपिक में जाने से पहले और वहां परफार्म करने के बाद भी खिलाडि़यों से लगातार संवाद किया, इसका भी अच्छा संदेश गया है। खिलाड़ियों को लगा कि देश उनके साथ है, उनके कारनामों के साथ वतन की धड़कनें भी ऊपर नीचे हो रही है। 2024 का ओलम्पिक पेरिस में होना है। हमारा लक्ष्य कम से पदकों की संख्या दोगुना करने का होना ही चाहिए। इस कामयाबी की तुलना कोई चीन से करना चाहे तो बेमानी है। क्योंकि चीन के ब्रांज मेडल ही हमारे कुल पदकों े 12 गुना ज्यादा हैं। लेकिन नीरज के स्वर्ण पदक से अब देश में नए खेल क्षेत्रों में भी जीत के जज्बे का नया कमल खिलेगा। जिस ओलंपिक की पहली सुबह वेटलिफ्टिंग में मीराबाई चानू की चांदी के पदक से हुई, उसका सुनहरा समापन नीरज चोपड़ा के स्वर्ण पदक से हुआ। और क्या चाहिए ?

अजय बोकिल के अन्य अभिमत

© 2020 Copyright: palpalindia.com
हमारे बारे
सम्पादकीय अध्यक्ष : अभिमनोज
संपादक : इंद्रभूषण द्विवेदी
कार्यकारी संपादक (छत्तीसगढ़): अनूप कुमार पांडे

हमारा पता
Madhya Pradesh : Vaishali Computech 43, Kingsway First Floor Main Road, Sadar, Cant Jabalpur-482001 M.P India Tel: 0761-2974001-2974002 Email: [email protected] Chhattisgarh : Mr. Anoop Pandey, State Head, Saurabh Gupta Unit Head, H.N. 117, Sector-3 Behind Block-17, Sivanand Nagar , Khamtarai Raipur-492006 (CG) Email: [email protected] Mobile - 9111107160